Swapandosh Ka Ilaj

Swapandosh Ki Ayurvedic Dawa

Swapandosh Ka Ilaj

Swapandosh Ka Ilaj, Nightfall Ki Dawa, Night Discharge

इस हिंदी पोस्ट में हम बात करेंगे नाइट फॉल की समस्या के बारे में। नाइट फॉल की जो समस्या होती है, इसमें रात को नींद के दौरान कोई कामुक दृश्य देखने के कारण आई उत्तेजना से वस्त्र में ही वीर्य छूट जाता है। ऐसा अधिकतर युवा उम्र में होता है, जोकि स्वाभाविक प्रक्रिया है। लेकिन ऐसा बार-बार होता है, तो यह रोग की श्रेणी में आ जाता है, जिसका उपचार करना जरूरी होता है। नहीं तो इसका परिणाम भविष्य में सेक्स समस्या के रूप में भुगतना पड़ सकता है। अधिक मात्रा में नाइट फॉल होने से वीर्य की बर्बादी होती है, जिससे वीर्य कम हो जाता है, वीर्य में पतलापन आ जाता है, धीरे-धीरे यह समस्या धातु रोग और शीघ्रपतन का कारण भी बन जाती है।

आप यह हिंदी लेख Kaahanayurveda.com पर पढ़ रहे हैं..

इसलिए आपके साथ यह सभी समस्याएं पेश ना आयें, हम बात रहे हैं आपको नाईट फॉल को हमेशा के लिए खत्म कर देने वाली एक रामबाण आयुर्वेदिक दवा के बारे में..

नाईट फॉल यानी स्वप्नदोष अगर अधिक मात्रा में होता है, तो इससे व्यक्ति को शारीरिक कमजोरी आने लगती है, थकान महसूस होने लगती है, सिर दर्द व स्वभाव में चिड़चिड़ापन आ जाता है, जोकि सेक्स समस्या के अलावा होने वाली परेशानिया हैं।

उस आयुर्वेदिक दवा का नाम जो आपको दिलायेगी पूरी तरह राहत धातु रोग और नाइट फॉल की समस्या से। उस दवा का नाम है- Shukra King (शुक्र किंग)!

यह दवा शुद्ध जड़ी-बूटियों के मिश्रण से बनाई गई है, जिसमें किसी भी तरह के स्ट्रॉयड्स या केमिकल का इस्तेमाल नहीं किया गया है। यह दवा आपको पाउडर के रूप में मिलेगी, जो कि पूरी तरह आयुर्वेदिक है। इस दवा के सेवन से आपकी वीर्य से जुड़ी सभी समस्याएं पूरी तरह खत्म हो जायेंगी। जैसे वीर्य का पतलापन, वीर्य में शुक्राणुओं की कमी आदि।
नाइट फॉल की समस्या के लिए तो यह दवा किसी जादू से कम नहीं है। 20 से 25 दिन में ही आपकी नाईट फॉल की समस्या जड़ से समाप्त हो जाती है। यह दवा बॉडी में घुलकर विषैले पदार्थों को बाहर निकाल फेंकती है और आपके माइन्ड को कंट्रोल करके आपकी कामोत्तेजना को शांत रखन में मदद करती है। जिससे नींद में आपको कामुक स्वप्न नहीं आते और आपको नाइट फॉल नहीं होता। आपके अंदर एनर्जी और ताकत को भी बनाये रखती है।

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *